Tuesday, May 7, 2013

शीशा और तुम

बहुत दिन हुए
तुम्हें शीशे के सामने खड़े नहीं देखा
क्या तुमने श्रृंगार करना छोड़ दिया?
या मैं तुम्हें श्रृंगार के पार देखने लगा हूँ?

जब देखता था तुम्हें काजल लगाते हुए
उन बंद आँखों के पीछे कुछ छुपाते हुए
आंख खुलते ही मेरी तरफ मुस्कुराते हुए|

वो एक हाथ से बालों को संभालना
दुसरे से दांतों में रखे क्लिप को निकालना
वो कानों में झुमके डालना
और वो नज़र मिला के भी मुझे टालना|

सब कुछ निहारता रहता था 
मेरा दिल बहुत कुछ कहता था
दिल तो आज भी कुछ कहता है
पर तुम शीशे के सामने दिखती नहीं
अब मैं वो सब कुछ कहूँगा 
जो शीशा  कभी कहता नहीं|

3 comments:

  1. bahut hi khoobsurat abhivyakti:

    "क्या तुमने श्रृंगार करना छोड़ दिया?
    या मैं तुम्हें श्रृंगार के पार देखने लगा हूँ?"

    -Abhijit (Reflections)

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद Abhijit जी|

    https://www.facebook.com/SearchingRhymes

    ReplyDelete
  3. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    ReplyDelete